Followers

Total Pageviews

Sunday, October 20, 2019

जिला सर्व सेन समाज की बैठक सम्पन्न



जिला सर्व सेन समाज की बैठक सम्पन्न
षिक्षा एवं सामूहिक विवाह जैसे विषयों पर हुआ गहन चिंतन
भारतीय दूतावास अमेरिका में पदस्थ संजय का हुआ सम्मान

छतरपुर। जिला सर्व सेन समाज के नवनियुक्त जिलाध्यक्ष दिलीप सेन द्वारा
नवगठित कार्यकारिणी की प्रथम बैठक का आयोजन सेन समाज मंदिर में किया गया।
बैठक में संगठन के विस्तार सहित अन्य कई महत्चपूर्ण मुद्दे जैसे षिक्षा,
बिना दहेज के सामूहिक विवाह एवं कुरीतियों को दूर करने, जैसे विषयों पर
गहन चिंतन एवं मनन किया गया। बैठक में प्रदेष अध्यक्ष गौरेलाल सेन,
प्रदेष संगठन मंत्री जयकरन सेन, संभाग प्रभारी नंद किषोर ओमरे, संरक्षक
दषरथ रैकवार ईषानगर, उपाध्यक्ष श्यामलाल सेन लवकुषनगर,उपाध्यक्ष हरदयाल
सेन खजुराहो,संरक्षक डाॅ.बी.एल.वर्मा,रामस्वरूप वर्मा,उपाध्यक्ष रामकृपाल
सेन नौगांव,लल्लू बाबू जी, जमना सेन, बालमुकुन्द सेन, संरक्षक मोहन लाल
वर्मा, संरक्षक बाबूलाल दालौन, सदस्य राजू सेन खैरी,सूरज सेन
चन्द्रनगर,वीरेन्द्र सेन,हेमराज वर्मा,सेन समाज के जिलाध्यक्ष दिलीप
सेन,युवा सेन संगठन अध्यक्ष मनीष वर्मा सहित कार्यकारिणी के समस्त
पदाधिकारी एवं सदस्यगण सम्मलित हुए।
जिला मीडिया प्रभारी गोल्डू सेन ने बताया कि कार्यक्रम का शुभारंभ सेन
महाराज की प्रतिमा पर  माल्यार्पण एवं दीप प्रज्जवलन के साथ हुआ।
तदुपरांत आयोजन समिति के सदस्यों द्वारा समस्त उपस्थित अतिथियों एवं
सामाजिक बन्धूओं का पुष्प मालाओं से स्वागत किया गया। बैठक में भारतीय
दूतावास वाषिंगटन (अमेरिका) में गृह मंत्रालय द्वारा पदस्थ संजय सेन का
सम्मान मुख्य अतिथि गोरेलाल सेन द्वारा फूल माला पहनाकर किया गया एवं
मुख्य अतिथि एवं संरक्षक मण्डल के सदस्यों ने जिला कार्यकारणी के
नवनियुक्त पदाधिकारियों को नियुक्त पत्र सौंपे।
बैठक को सम्बोधित करते हुए प्रदेष अध्यक्ष गोरेलाल सेन ने संगठन के सफल
संचालन के लिए नियमों का पालन करना अवष्य है, उन्होंने कहा कि हमें
सर्वप्रथम षिक्षा को प्रोत्साहन देना होगा साथ ही आदर्ष विवाह
सम्मेलन,समाज के उत्थान एवं विकास के लिए सहयोग लेकर कार्य करना पड़ेगा।
वरिष्ठ संरक्षक सदस्य दषरथ सेन ईषानगर ने कहा कि संगठन को समाज के अंतिम
छोर के व्यक्ति की मदद के लिए प्रयास करना होगा इसके लिए एक आपदा कोष की
भी स्थापना होना चाहिए। खजुराहो से पधारे समिति उपाध्यक्ष हरदयाल सेन कहा
कि समाज को तोड़ने वालों से सावधान रहे, कुछ लोग अपने निजी स्वार्थ के
लिए समाज को ही बांटने में लगे हुये हैं हमें इनसे सावधान रहना होगा।
बैठक में अन्य वक्ताओं ने भी अपने विचार रखे।
स्वागत भाषण समिति के सचिव राजेन्द्र सेन ने दिया एवं आभार प्रदर्षन
जिलाध्यक्ष दिलीप सेन ने व्यक्त करते हुए कहा कि समाज को एकजुट करने का
प्रयास हम सब मिलकर करेंगे,जब कोई भी प्रयास निःस्वार्थ भाव से किया जाता
है तो निष्चित ही सफलता की प्राप्ति होती है। कार्यक्रम का सफल संचालन
जिला महामंत्री रामाधीन सेन द्वारा किया गया।
इस अवसर पर नंद किषोर सेन पुरवा, नर्मदा प्रसाद सेन,हरचरन सेन, जगदीष सेन
दिदौल,आनन्द प्रकाष सेन, आषुतोष सेन, कालीचरन सेन, नीरज सेन, रामकुमार
सेन, रामेष्वर सेन, बसारी, पंकज सेन, विक्रम सेन, संदीप सेन,रानू
सेन,प्रषांत सेन, राजू सेन सहित सामाजिक बन्धू उपस्थित रहे।

गढीमलहरा सुख सागर तालाब के बंधान एवं पार्क मे सफाई के बाद किया वृक्षारोपण


गढीमलहरा सुख सागर तालाब के बंधान एवं पार्क मे सफाई के बाद किया वृक्षारोपण ।
नमामि देवी नर्मदे प्रकल्पएवं युवा  विकास  मंच  तथा नगर परिषद गढीमलहरा ने नगर को क्लिीन एवं ग्रीन सिटी बनाने की पहल करते हुये गढीमलहरा सुख सागर तालाब के बंधान एवं पार्क मे सफाई के बाद वृक्षारोपण में गाजरघास एवं परिसर की सफाई की एवं कनेर,चांदनी,गुडहल,बादाम पाम एवं गुलमोहर आदि के पौधे लगाये गये । मुख्‍य अतिथि के रूप में पूर्व सीएमओ एवं कचरा प्रबंधन के विशेषज्ञ डी.डी.तिवारी के साथ पूर्व बैंक प्रबंधक राकेश शर्मा एवं बालमुकुंद पौराणिक ने सफाई के बाद प्रसंकरण पार्क मे वृक्षारोपण किया । मुख्‍य नगर पालिका अधिकारी जगदीश मिश्रा के साथ स्‍वच्‍छता ब्रांड एम्‍वेस्‍डर सचिन चौरसिया । नोडल अधिकारी राजेंद्र खरे, राजेश चौरसिया, रामजी श्रीवास्‍तव, इजहार खानराजाराम माली, गोपी चन्‍द्र अहिरवारभगवानदास पालपंकज चौरसियामनीष चौरसिया, राजाराम अहिरवार,जमना प्रसाद मिश्रा,नन्‍हेलाल प्रजापति,जयचन्‍द्र अनुरागी,रामेश्‍वर कुशवाहा ने पौधरोपण के बाद साफ सफाई श्रमदान कार्यक्रम में भाग लिया । मुख्‍य नगर पालिका अधिकारी जे0पी0 मिश्रा ने बताया कि 50 किलो से अधिक कचरा उत्‍पन्‍न करने वाले संस्‍थानो एवं कार्यालयो होटल आदि को अपने कचरे का प्रबंधन स्‍वयं करना होगा गीले कचरे से परिसर मे खाद बनाना होगी एवं सूखा कचरा नीले डस्‍टबीन मे संग्रहित कर नगर पालिका को देना हेागा। डी.डी.तिवारी ने एकल उपयोग प्‍लास्टिक उपयोग न करने तथा कपडे के थैला कागज  के लिफाफे तथा डिस्‍पोजल के स्‍थान पर चीनी मिटटी/काच व स्‍टील  के पात्र सार्वजनिक कार्यक्रमो व उत्‍सवो मे उपयोग करने की सलाह दी। आगामी रविवार को वार्ड क्रमांक गायत्री मंदिर के सामने कतकारी घाट पर सफाई अभियान चलाया जायेगा ।

सातवें वेतनमान व बीएलओ कार्य से मुक्ति के लिये आजाद अध्यापक शिक्षक संघ ने सौंपा ज्ञापन


सातवें वेतनमान व बीएलओ कार्य से मुक्ति के लिये आजाद अध्यापक शिक्षक संघ ने सौंपा ज्ञापन
जिले भर से आये सैकड़ों अध्यापक हुए शामिल
नोट :- उक्त समाचार के साथ फोटों क्रमांक 001, 002 लगायें।
छतरपुर। रविवार को आजाद अध्यापक शिक्षक संघ के बैनर तले सैकड़ों अध्यापकों ने मुख्यमंत्री के नाम जिला प्रशासन को ज्ञापन सौंपकर सातवां वेतनमान शीघ्र दिलाये जाने एवं जिले के शिक्षकों को बीएलओ कार्य से मुक्त करने की मांग की।
आजाद अध्यापक शिक्षक संघ के जिला अध्यक्ष अनुपम त्रिपाठी के नेतृत्व में जिले भर से आये सैकड़ों अध्यापक मोटे के महावीर मंदिर में एकत्र हुए जहां एक बैठक करने के बाद सभी अध्यापक कलेक्ट्रेट पहुंचे और जिला प्रशासन की ओर से  मौजूद नायब तहसीलदार मैडम को तीन ज्ञापन सौंपे।
जिला अध्यक्ष अनुपम त्रिपाठी ने बताया कि राज्य शिक्षा सेवा में अध्यापकों के संविलियन के बाद जुलाई 2018 से सातवें वेतनमान का लाभ देने के आदेश होने के बावजूद अभी तक सातवें वेतनमान का लाभ न मिलने से अध्यापकों में आक्रोश व्याप्त है और संघ के प्रांत अध्यक्ष भरत पटेल के आव्हान पर 20 अक्टूबर को प्रदेश के सभी जिलों में ज्ञापन सौपें गए हैं। इसी क्रम में छतरपुर में भी मुख्यमंत्री के नाम जिला कलेक्टर को सौंपे गए ज्ञापन में अध्यापकों को शीघ्र सातवें वेतनमान का लाभ दिलाने,शिक्षा विभाग में संविलियन से शेष रहे अध्यापकों का शीघ्र संविलियन करने, अनुकम्पा नियुक्ति के नियमों का सरलीकरण करने की मांगें की गईं है। वहीं जिला कलेक्टर के नाम सौंपे गए ज्ञापन में शिक्षकों को बीएलओ कार्य से मुक्त रखने की मांग की गई है।
अन्य जिलों में शिक्षकों को बीएलओ कार्य से किया गया है मुक्त- ज्ञापन में बताया गया है कि मध्यप्रदेश शासन स्कूल शिक्षा विभाग के पत्र दिनांक 25 मार्च 2013 एवं संचालक राज्य शिक्षा केन्द्र मध्य प्रदेश के पत्र दिनांक 24 सितम्बर 2019 के द्वारा शिक्षकों को बीएलओ कार्य से मुक्त रखने के लिए कहा गया है। शिक्षा का अधिकार अधिनियम की धार 27 में भी निर्वाचन कार्य,जनगणना कार्य एवं आपदा राहत कार्यों को छोड़कर किसी अन्य कार्य मे शिक्षकों को संलग्न करने की मनाही है। उक्त आदेशों के अनुसार प्रदेश के कई अन्य जिलों में शिक्षकों को बीएलओ कार्य से मुक्त कर दिया गया है। चूंकि स्कूलों में दक्षता उन्नयन जैसा महत्वपूर्ण कार्यक्रम चल रहा है। और बीएलओ डियूटी होने से शिक्षण प्रभावित हो सकता है। इस लिए छतरपुर जिले में भी शिक्षकों को बीएलओ कार्य से मुक्त करने की मांग की गई है। वहीं लवकुशनगर से आये शिक्षकों द्वारा सौंपे गए एक अन्य ज्ञापन में शासकीय उत्कृष्ट उच्चतर माध्यमिक विद्यालय लवकुशनगर में पदस्थ रहे लेखापाल नन्द किशोर सिंह परिहार का निलंबन समाप्त कर उन्हें बहाल करने की मांग की गई है। ज्ञापन में बताया गया है कि अतिथि शिक्षकों की भर्ती स्कूल की एसएमसी द्वारा की जाती है और श्री परिहार का कार्य व्यवहार शिक्षकों के प्रति अच्छा रहा है। इसलिए पुन: विचार कर उनके निलंबन को समाप्त करने की मांग जिला कलेक्टर से की गई है। ज्ञापन सौंपने के दौरान श्रीमती रजनी जैन, जिला संयोजक जगदीश सोनी, जिला संगठनमंत्री अनिल शुक्ला, जिला सचिव राकेश द्विवेदी, जिला उपाध्यक्ष वीर सिंह यादव,विनोद दुबे, गौरीशंकर विश्वकर्मा, अरुण मिश्रा, दिनेश जोहरी, राज गुप्ता, राजकुमार अनुरागी, सरमन सेन, बब्बी तिवारी, वीरेंद्र सोनी, छतरपुर ब्लॉक अध्यक्ष परमानन्द पांडे, लवकुशनगर ब्लॉक अध्यक्ष राजेंद्र पटेल, नौगांव ब्लॉक अध्यक्ष सचिन द्विवेदी, बारीगढ़ ब्लॉक अध्यक्ष अजय राय, भूपेंद्र रिछरिया, श्रीमती सुमन नामदेव, श्रीमती नीलम वर्मा, यादवेंद्र सिंह, राजकुमार रिछरिया, टीकाराम अहिरवार, मनोज चौरसिया, विजय सोनी, जीतेन्द्र चतुर्वेदी, समर श्रीवास्तव, केके हरदेनियां सहित जिले भर से आये एक सैकड़ों से अधिक अध्यापक शामिल रहें।

नई रेत नीति बनने के बाद शासन के आदेशों की धज्जियां उड़ा रहे कलेक्टर

छतरपुर। मप्र शासन ने नई रेत खनन नीति बनाई है जिसके तहत 43जिलों में निविदा प्रक्रिया 8 नवंबर 2019 तक निर्धारित की गई है। निविदाकारों को उच्चतम बोली लगाने वालों को रेत खदान संचालन की जिम्मेदारी नई नीति के अनुसार व्यवधानिक अनुमतियां प्राप्त करने के बाद मिलेगी। परंतु शासन ने 11 अक्टूबर 2019 को यह निर्णय लिया कि निजी भूमि एवं ग्राम पंचायतों को हस्तांतरित रेत खदानों को 30 जून 2019 के पूर्व पर्यावरण स्वीकृति प्राप्त हो गई थी ऐसी सभी खदानों को तत्काल संचालित करने के निर्देश प्रमुख सचिव खनिज नीरज मंडलोई द्वारा जारी किए गए थे और इस संबंध में खनिज मंत्री प्रदीप जयसवाल ने यह भी कहा था कि प्रदेश में जनता को रेत प्राप्त करने में कोई दिक्कत न हो इसको ध्यान में रखते हुए निजी भूमि की रेत खदानें एवं ग्राम पंचायतों को हस्तांतरित की गईं रेत खदानों को चालू करने का निर्णय भी लिया गया था। परंतु छतरपुर कलेक्टर मोहित बुंदस ने शासन के आदेशों की धज्जियां उड़ाते हुए अभी तक कोई भी ग्राम पंचायत एवं निजी भूमि की फाइलें स्वीकृत नहीं की हैं। इन फाइलों को वह अपने सीने से चिपकाकर बंगले में रखे हुए हैं। जबकि ये सभी फाइलें पूर्व में एनजीटी एवं सीटीओ से स्वीकृत हो चुकी हैं केवल मात्र इन्हें स्वीकृति प्रदान करना है। परंतु छतरपुर कलेक्टर ये सभी फाइलें दबाकर बैठे हुए हैं और रेत माफियों को लाभ पहुंचाने के लिए इन ग्राम पंचायतों और निजी भूमि की फाइलों को स्वीकृत नहीं कर रहे हैं। खनिज विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि शासन के आदेश आने के बाद ये सभी फाइलें कलेक्टर के पास भेज दी गई हैं। अंतिम निर्णय कलेक्टर को करना है। फिलहाल छतरपुर कलेक्टर भी होशंगाबाद के कलेक्टर की तरह रेत की फाइलों को लेकर विवादों में न पड़ जाएं। हालांकि यह मामला प्रदेश के मुख्यमंत्री के संज्ञान में भी आ गया है। अब देखना है कि कलेक्टर इन फाइलों को कब तक करते हैं। खनिज विभाग के प्रमुख सचिव नीरज मंडलोई ने पूरे प्रदेश के कलेक्टरों को यह निर्देश जारी किए थे कि निजी भूमि एवं ग्राम पंचायतों को पूर्व में स्वीकृत की गई रेत खदानों को तत्काल प्रभाव से चालू कराया जाए। ताकि प्रदेश में रेत की कमी न पड़े। परंतु छतरपुर कलेक्टर ने खनिज विभाग के प्रमुख सचिव के आदेश को रद्दी की टोकरी में डाल दिया है और धड़ल्ले से रेत माफियों को लाभ पहुंचाने में लगे हुए हैं। गौरिहार तहसील से प्रतिदिन लगभग 150 ट्रक अवैध रूप से उत्खनन किए जा रहे हैं। यह आरोप भी भाजपा के विधायक राजेश प्रजापति ने बीते रोज लगाए थे। जो बात अब सही साबित हो रही है। इस संबंध में खनिज इंस्पेक्टर अजय मिश्रा ने बताया कि सोमवार तक ग्राम पंचायतों एवं निजी भूमि की सभी फाइलों के प्रस्ताव राज्य शासन के पास भेज दिए जाएंगे। 

Saturday, October 19, 2019

एक लायसेंस पर अब दर्ज होंगे तीन हथियार विनोद अग्रवाल

एक लायसेंस पर अब दर्ज होंगे तीन हथियार
विनोद अग्रवाल
छतरपुर। मप्र शासन ने शस्त्र लायसेंसों में अब तीन हथियार रखने की स्वीकृति प्रदान कर दी है। भाजपा सरकार ने इस नियम को अलग कर दिया था और एक शस्त्र लायसेंस पर एक ही हथियार स्वीकृत होता था। यहां तक कि यदि रिवाल्वर का लायसेंस आपका स्वीकृत होता है तो अपनी 315 या 12 बोर का लायसेंस सरेंडर करना पड़ता था। परंतु कांग्रेस सरकार में फिर से एक लायसेंस पर तीन हथियार स्वीकृत किए जाने की अनुमति देने का प्रावधान किया है। इसके लिए बकायदा नोटिफिकेशन जारी कर दिया गया है। अब जिन लोगों की बंदूकें थानों में जमा हो गई थीं या वह अपने बंदूकें अन्य अपने रिश्तेदारों को दिए हुए थे वह वापस लेकर अब एक लायसेंस पर तीन हथियार चढ़वा सकते हैं। शासन ने यह आदेश जारी कर दिया है। इस संबंध में कांग्रेस के विधायकों का कहना है कि यह तो नियम केन्द्र सरकार का बनाया हुआ था परंतु भाजपा सरकार ने मप्र में ऐसा नियम नहीं लागू किया जिसके चलते लोगों को काफी परेशानियां उठानी पड़ी उप्र एवं अन्य प्रदेशों में आज भी एक लायसेंस पर तीन तीन हथियार चलाए जाते हैं। फिलहाल शस्त्र लायसेंस धारियों के लिए यह खुशखबरी है कि अब एक शस्त्र लायसेंस पर तीन शस्त्र चढ़वा सकते हैं। यह जिले के डीएम की स्वीकृति के बाद जारी होंगे। 

Friday, October 18, 2019

पीडि़त मानवता हेतु आर्थिक सहयोग की अपील


पीडि़त मानवता हेतु आर्थिक सहयोग की अपील
छतरपुर। श्री रामगोपाल वर्मा निवासी टौरिया मुहल्ला, गुरुद्वारा मार्ग, छतरपुर बिजली का कार्य करते हुए छत से गिर जाने के कारण कमर के नीचे का हिस्सा पूर्ण रूप से काम नहीं कर रहा है। श्री रामगोपाल वर्मा के घर में पत्नी सहित 3 बेटियां एवं 1 बेटा होने के कारण घर की माली हालत अत्यंत खराब है। बच्चों की शिक्षा भी प्रभावित हो रही है। श्री रामगोपाल वर्मा के इलाज के लिए करीब 2 लाख रुपये की तत्काल आवश्यकता है। कृपया अधिक से अधिक दान देकर श्री रामगोपाल वर्मा के परिवार की सहायता कर अपना सहयोग प्रदान करें। श्री रामगोपाल का मोबाइल नम्बर 9754542084 है एवं बैंक ऑफ बड़ौदा छतरपुर का खाता क्रमांक 09590100016317 है जिसका आईएफएससी कोड क्च्रक्रक्च०ष्ट॥॥्रञ्ज्र है। दानदाता इस खाते पर सहयोग राशि भेज सकते हैं।