Breaking News

भविष्य की आहट / डा. रवीन्द्र अरजरिया देश बन सकता है कोरोना के उपचार में सिरमौर

 कोरोना महामारी का दौर मानवीय काया के लिए बेहद कठिनाई भरा है। इस कठिन दौर में जहां पूरा समाज परोपकार में लगा है वहीं कुछ लोगों लाभ कमाने के लिए मानवीयता को तार-तार करने में भी जुटे हैं। नकली दवाओं से लेकर ब्लैक मार्केटिंग तक के अनगिनत मामले सामने आ रहे हैं। अधिकांश निजी अस्पतालों में मरीजों के आर्थिक शोषण की कहानियों कही-सुनी जा रहीं हैं। वहां लाखों का बिल तो एक मामूली सी बात हो गई है। सरकारी अस्पतालों में सीमित संसाधनों के मध्य जहां चिकित्साकर्मी जी-जीन से जूझता रहा वहीं प्रबंधन तंत्र स्वनियंत्रित होकर खोखले दावे करने में कीर्तिमान की प्रतियोगिता जीतना चाहता है। सरकारें निरंतर अपेक्षित बजट उपलब्ध करा रहीं हैं परन्तु उत्तरदायी अमला अपने ढर्रे पर ही  काम कर रहा है। पीपीई किट से लेकर सुरक्षा संसाधनों तक की घटिया आपूर्ति ने अनेक चिकित्साकर्मियों की हत्या कर दी। देश के बाहर से आने वाली सहायता भी सरकारी तंत्र के मनमाने क्रियाकलापों के कारण अधिकांश स्थानों पर उचित समय और मात्रा में नहीं पहुंच सकी। अन्य देशों की बात करें तो चीन ने तो कोरोना फैलाने से लेकर उसका निदान करने तक की पूरी परियोजना को पूर्व निर्धारित कर रखा है। यह उसकी व्यवसायिक नीति का महात्वपूर्ण हिस्सा है। ऐसे में भारत यदि दूरगामी नीतियों का निर्धारण करके कोरोना का समाधान ढूंढता, तो विश्व मंच पर सर्वोच्च स्थान पा सकता था। वैदिक साहित्य में महामारी से निपटने के अनेक उपायों का उल्लेख है। यह ज्ञान आज भी विज्ञान के सीमित संसाधनों और अनुसंधानों पर भारी है परन्तु अपने ही देश में अपनी ही विरासत पर प्रश्न चिंह लगाने वालों की कमी नहीं है। देश की अपनी आयुर्वेद, प्राकृतिक चिकित्सा (नेचरोपैथी) और सिध्दा जैसी चिकित्सा पध्दतियों को होम्योपैथी और यूनानी के साथ आयुष मंत्रालय के अंतर्गत दोयम दर्जे पर रखा गया है। आईएमए यानी एलोपैथी के जानकारों का समूह। चिकित्सा का अर्थ केवल एलोपैथी तक ही सीमित होकर रह गया है। शब्दों के वास्तविक मायनों का अपहरण कर लिया गया है तभी तो व्यक्तिगत दूरी रखने के निर्देशों को सोशल डिस्टैंसिंग नाम देकर सामाजिक दूरी बनाने हेतु प्रेरित किया जा रहा है। ऐसे अनेक उदाहरण हैं जब नीति निर्धारकों ने शब्दों को अर्थविहीन करके उन्हें विकृत करने का जानबूझ कर प्रयास किया है। वास्तविकता तो यह है कि परतंत्रता के दौर में इंग्लैण्ड से आई इस एलोपैथी के अनगिनत गुलाम आज भी अंग्रेजियत के पक्ष में स्वयं के गौरवशाली अतीत को कोसने से बाज नहीं आ रहे हैं। मौके की तलाश में रहने वाले ऐसे लोग जयचंदों के वर्तमान अवतार बनकर निरंतर सक्रिय रहते हैं ताकि देश आंतरिक समस्याओं के मकड जाल में निरंतर व्यस्त रखा जा सके। इन जयचंदों को अनेक देशों से न केवल आर्थिक मदद मिलती है बल्कि राजनैतिक संरक्षण भी मिलता है। स्वाधीनता के बाद भी एलोपैथी को निरंतर बढावा देना इसी षडयंत्र का एक महात्वपूर्ण हिस्सा है। मेडिकल कालेज यानी चिकित्सा महाविद्यालय का अर्थ ही एलोपैथी की बडी संस्था हो गया है। अप्रत्यक्ष रूप में अन्य पैथी को चिकित्सा पध्दतियों के बाहर कर दिया गया है। कोरोना की पहली दस्तक के बाद यदि आयुर्वेद, प्राकृतिक चिकित्सा (नैचरोपैथी) और सिध्दा के जानकारों को प्रोत्साहित करके महामारी के निदान हेतु अनुसंधान में लगाया होता तो आज हमारे पास न केवल स्थाई उपचार होता बल्कि विश्व को कोरोना का सुरक्षा कवच भी उपलब्ध कराने का गौरव प्राप्त होता। वैदिक ग्रंथों में सबसे पहले स्थान पर सिध्द पध्दति को रखा गया हैं जहां तक की कल्पना भी विज्ञान के लिए संभव नहीं है। ऊर्जा हस्तांतरण पध्दति (इनर्जी ट्रांसफर मैथड) से सिध्दों ने हमेशा से ही उपचार किया है। इस पध्दति पर अमेरिका सहित अनेक देशों में तेजी से काम किया जा रहा है और वह दिन दूर नहीं जब हम उसे वहां के पेटेन्ट पर हम इसे आयातित करें। भारत का ही योग विदेशों से योगा होकर लौटता है, तब हम उसे स्वीकार करते हैं। देश की धरती पर जन्मे कृष्ण का दर्शन हमें इस्कान से ही समझ में आता है। मानसिक गुलामी से बाहर आना होगा। चंद लोगों की चालों को समझना होगा। लाशों पर राजनीति करने वाले शायद आने वाले समय में लाशों का कारोबार शुरू करके सत्ता सिंहासन पर आसीत होना चाहते हैं तभी तो मौत के इस तांडवकाल में भी पीडित मानवता पर गिध्द भोज करने में जुटे हैं। राष्ट्रीय संरक्षण के अभाव में सिध्दा के जानकारों का निरंतर अभाव होता जा रहा है। प्राकृतिक चिकित्सा के लिए संघर्ष करने वाली संस्थाओं को दस्तावेजी पैंचों के मध्य निरंतर कसा जा रहा है। सिध्दा और प्राकृतिक चिकित्सा पध्दतियों को सरकारी संरक्षण के न देकर उन्हें समाप्त करने की चालें निरंतर चली जाती रहीं है। आयुर्वेद को यद्यपि कुछ सरकारों व्दारा पोषित करने की बात कही जा रही है परन्तु आयुर्वेद के नाम पर कुछ खास लोगों और कुछ खास संस्थाओं को ही चिन्हित करके लाभ देने के मामले हमेशा ही सुर्खियां बनते रहे हैं। अंग्रेजी में सोशल डिस्टैंसिंग को व्यक्तिगत दूरी का अर्थ बताकर प्रचारित करने वाले लोग सिध्दा, प्राकृतिक चिकित्सा और आयुर्वेद के संस्कृत भाषा में स्थापित ज्ञान को भी मनमानी परिभाषायें देने के योजनावध्द अभियान में आज भी हैं। वास्तविकता तो यह है कि यदि कोरोना का स्थाई निदान चाहिए तो हमें अपने वैदिक ग्रंथों की ओर लौटना पडेगा। इन ग्रंथों में तात्कालिक विशेषज्ञों ने सूत्र के रूप में ज्ञान का भंडार संरक्षित कर रखा है जिसे अनुसंधान के माध्यम से निकाला जाना चाहिए। इस हेतु फिलहाल आयुर्वेद, प्राकृतिक चिकित्सा और सिध्दा के जानकारों के अनुसंधान हेतु अलग-अलग मंच प्रदान करके यदि कोरोना के बजट का मात्र 5 प्रतिशत ही ईमानदारी से खर्च कर दिया जाये तो आज भी देश बन सकता है कोरोना के उपचार में सिरमौर। फिलहाल इतना ही। अगले सप्ताह एक नई आहट के साथ फिर मुलाकात होगी।


No comments