Breaking News

भीमकुंड में नारायण संस्कृत पाठशाला में छात्रों व आचार्य गण को सामग्री वितरित: *

 पं. गणेश प्रसाद मिश्र सेवा न्यास के अध्यक्ष डॉ. राकेश मिश्र ने संस्कृत भाषा उन्नयन हेतु दस हज़ार रूपये नक़द पुरूष्कार की सीमा बढ़ाई:


*छतरपुर! आज बुद्ध पूर्णिमा के पावन पवित्र अवसर पर अबार माता मंदिर  (रामटौरिया के निकट) के पावन स्थान पर सर्व कल्याणार्थ पूजा आरती की।यह स्थान पांडव कालीन है।बहुत ऊँची शिला पर देवी मॉं  विराजमान हैं।इस स्थान का विकास आल्हा ऊदल ने किया था। इस स्थान पर वैशाख मास की पूर्णिमा को बड़ा ही भव्य मेला लगता है।भक्त गण जवारों का विसर्जन करने आते हैं।ऐसी मान्यता है कि है फ़सल अच्छी आने के बाद जवारे निकाले जाते हैं।

     इसके बाद भीमकुंड दर्शनीय तीर्थ स्थल पर जाना हुआ जहां  नीले पानी का अथाह जलस्रोत है।यहॉं  पर चलने वाली नारायण संस्कृत पाठशाला का अवलोकन किया। जिसमें 76 विद्यार्थी पढ़ते हैं। श्री श्री 1008 श्री शंकर्षणाचार्य जी महाराज के साथ पूरे परिसर का अवलोकन किया। 

    डॉ. राकेश मिश्र जी के जन्मदिन के अवसर पर संस्कृत पाठशाला के छात्रों के लिए शुद्ध पेयजल के लिए  एक आर. ओ. प्रदान किया गया। इसी प्रकार समय बताने हेतु दीवार घड़ी प्रदान की गई। सभी छात्रों को टी-शर्ट , लेखन कापी व पेन पेंसिल एवं अन्य सामग्री दी गई। शिक्षकों को शहद में  बने हुए मुरब्बा एवं भगवान धन्वंतरि का चित्रपट भेंट किया गया। इस अवसर पर सभी काम करने वाले लोगों को जूते प्रदान किये गए।पं. गणेश प्रसाद मिश्र सेवा न्यास संस्कृत भाषा को बढ़ावा देने के लिए हमेशा तत्पर रहता है। इसलिए दसवीं कक्षा में सर्वोच्च अच्छे अंक पाने वाले को दस हज़ार रुपये नगद पुरस्कार  देता है। आज इस जन्म दिवस के समारोह को सादगी पूर्वक मनाया गया और एक शुभ संकल्प लिया गया कि आने वाले समय में भी इस  पाठशाला का संपूर्ण विकास करेंगे। न्यास के अध्यक्ष डॉ. राकेश मिश्र और न्यास के सभी साथियों के साथ श्री पी. एल. तंतुवाय विधायक हटा, जिला शिक्षा अधिकारी एस के. शर्मा मौजूद रहे । श्रीमती रेखा अवस्थी कोषाध्यक्ष ,  नीरज भार्गव एवं प्रखर भट्टी आश्रम वालियों के साथ  सहभोज किया।ऐसा जन्मदिन मनाने का अनोखा तरीक़ा है कि ज़रूरत मंदों के साथ शिक्षा और स्वास्थ्य के लिए काम करने वाले लोगों को मदद पहुँचे,यही  न्यास का उद्देश्य है।







No comments