Breaking News

मुख्यमंत्री ने सागर संभाग के जिलों की कोविड नियंत्रण संबंधित गतिविधियों की समीक्षा कर, आपदा प्रबंधन समिति से चर्चा की

 31 मई तक बुंदेलखण्ड को कोरोना मुक्त करेंगे।

कोरोना संक्रमण के बढ़ने की सीमा असीमित है यह बहरुपिया वायरस है

ग्राम आपदा समिति लोगों असली योद्धा हैं लोगों को टीकाकरण के लिए तैयार करें

45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों का कोविड टीकाकरण कराएं

---------

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि हमनें मान लिया और निश्चित हो गए कि कोविड आपदा समाप्त हो गई किंतु कोविड अदृश्य शत्रु है और जब तक यह जड़ से समाप्त नही होगा तब तक सामाजिक जीवन में यह संक्रमण बना रहेगा। समाज के हर-एक व्यक्ति को व्यवहार में सावधानी बरतते हुए जीवन जीना सीखना होगा तभी कोविड संक्रमण से सुरक्षित रह सकते हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सोमवार को सागर संभाग के जिलों की कोविड नियंत्रण संबंधित गतिविधियों की वर्चुअली समीक्षा में आपदा प्रबंधन समिति के सदस्यों, जनप्रतिनिधियों और कलेक्टर्स से चर्चा करते हुए उक्त विचार व्यक्त किए। संभागीय समीक्षा बैठक में केन्द्रीय पर्यटन मंत्री श्री प्रहलाद पटेल, प्रदेश के श्री गोपाल भार्गव, लोक निर्माण मंत्री, श्री गोविंद सिंह राजपूत राजस्व एवं परिवहन मंत्री, श्री भूपेन्द्र सिंह नगरीय विकास एवं आवास मंत्री तथा संभागायुक्त श्री मुकेश कुमार शुक्ला भी उपस्थित थे।


मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि 31 मई तक बुंदेलखण्ड को कोरोना मुक्त करेंगे तब तक नागरिक इस आपदा को समाप्त करने में सहयोग करें और शक्ति से कोरोना कर्फ्यू का पालन भी करें। उन्होंने कहा कि 45 वर्ष से अधिक आयु समूह के लोगों का कोविउ टीकाकरण कराने के लिए ग्राम एवं वार्ड स्तरीय आपदा प्रबंधन समिति के सदस्य आगे आएं और हर-एक लोगों को समझाए कि टीकाकरण कराने से ही मानवीय जीवन सुरक्षित रहेगा। ग्राम एवं नगरवासी डरे नही, विश्वास बनाए रखें, कोविड टीकाकरण से सभी लोगों में नही कुछ लोगों में मामूली बुखार आता है जो कुछ समय तक ही रहता है। जैसे पूर्व में हम चेचक संक्रमण से मुक्त हुए है इसी तरह से कोविड संक्रमण से भी मुक्त होगें। पोस्ट कोविड केयर सेंटर और ब्लैक फंगस संक्रमण के उपचार तथा बच्चा वार्ड की व्यवस्था तुरंत करें। उन्होंने कहा कि ग्राम एवं वार्ड आपदा प्रबंधन समिति के सदस्य असली योद्धा हैं जिनके सहयोग से कोरोना पर नियंत्रण संभव हुआ है। कोरोना संक्रमण के बढ़ने की सीमा असीमित है यह बहरुपिया वायरस है। किल-कोरोना अभियान सतत् जारी रखें, जहां अधिक केस मिले वहां

कोविड संक्रमण मानवीय लापरवाही का नतीजा है और सामाजिक व्यवहार निभाने तथा गाइडलाइन का उल्लंघन करने से अधिक फैलाता है हमें इस संक्रमण से बचने के लिए सर्तकता एवं सजगता बरतनी होगी। कोविड आपदा की स्थिति में सामाजिक मेल-जोल एवं व्यवहार पर नियंत्रण रखना होगा। उन्होंने बताया कि ब्रिटेन में अनलॉक के बाद कोविड आपदा तेजी से फैली है आपस में मिलने-जुलने का सामाजिक व्यवहार इसका मुख्य कारण रहा है और सोशल डिस्टेंसिंग के साथ-साथ कोविड गाइडलाइन का पालन नही करना भी मुख्यबात रही है।

उन्होंने कहा कि हम यह मानकर निश्चित हो गए कि कोरोना समाप्त हो गया है। कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए संयमित व्यवहार का पालन करें कोविड का विस्तार लापरवाही बरतने से होता है। माइक्रो-कंटेंटमेंट जोन बनाएं कोविड केयर सेंटर सतत् चालू रखें  पोस्ट कोविड केयर सेंटर की व्यवस्था तुरंत करें।

उन्होंने कहा कि दवा का एक भी डोज व्यर्थ नहीं जाए, यदि 10 लोगों को दवा लगाना है तो 2-3 और 20 लोगों का टीकाकरण होना है तो 4-5 एक्स्ट्रा लोगों को बुलाया जाए। उन्होंने कहा कि कोविड संक्रमण को समाप्त करने के लिए किल-कोरोना अभियान के घर-घर सर्वे में आम नागरिक सर्दी, जुकाम, बुखार और खांसी लक्षण के पाए जाने की सही जानकारी दल के सदस्यों को दें और तुरंत ही दवाईयों का सेवन शुुरु करें। कोरोना टेस्ट कराने से डरे नहीं। सही समय पर सही उपचार होने से इस संक्रमण का ईलाज संभव है।

उन्होंने कहा कि गरीबों को दिए जाने वाले राशन व्यवस्था को कलेक्टर देखें। इसका वितरण ठीक ढंग से हो दुकानों पर भीड़ एकत्रित न हो, कोई पात्र व्यक्ति वंचित न हो और कालाबाजारी न हो। शासन द्वारा चौबीस नई श्रेणी जोड़ी गई है राशन वितरण व्यवस्था का विधायक और जनप्रतिनिधि भी अवलोकन करें।

जो बच्चें अनाथ हो गए है जिन्होंने कोविड आपदा में माता-पिता को या अभिभावक को खो दिया है ऐसे बच्चों को राज्य शासन द्वारा प्रतिमाह 5 हजार रुपए की मासिक पेंशन दी जाएगी। जिला कलेक्टर सूची तैयार करें। इसी तरह कर्मचारी वर्ग के लिए भी शासन द्वारा निर्णय लिया गया है कोविड आपदा के चलते किसी कर्मचारी की दुर्भाग्यपूर्ण मृत्यु होती है तो अनुकंपा नियुक्ति के साथ-साथ ही अनुग्रह राशि देने का प्रस्ताव कलेक्टर तैयार करें।

मुख्यमंत्री ने कहा कि रोगी कल्याण समिति को सशक्त करने का अवसर आ गया है, शीघ्र अतिशीघ्र इनकी बैठक आयोजित करें लोगों को समिति में दान देने के लिए प्रेरित किया जाए। प्राप्त राशि का उपयोग चिकित्सा व्यवस्था को सुधारने में करें। संकट के इस समय में आर्थिक गतिविधियों के साथ-साथ रोजमर्रा के मानवीय जीवन की गतिविधियां एवं कामकाज शुरु हो सकें। ऐसी रणनीति भी बनानी होगी। हममें से हर-एक व्यक्ति को कोविड संक्रमण बढ़ने नही देने वाला व्यवहार करना होगा।


मुख्यमंत्री ने कोविड नियंत्रण के नवाचार कार्यक्रमों को सराहा


कलेक्टर छतरपुर श्री शीलेन्द्र सिंह ने कोरोना नियंत्रण के लिए किए जा रहे कार्यों की सारगर्भित जानकारी मुख्यमंत्री को दी। मुख्यमंत्री ने जिले में नवाचार के रुप में शुरु किए गए हमाओ घर हमाई जवाबदारी, संकल्प अभियान, दीनदयान अंत्योदय रसोई के क्रियान्वयन पर खुशी जाहिर करते हुए जिला आपदा प्रबंधन समिति के सदस्यों को बधाई दी। पूर्व मंत्री ललिता यादव और बिजावर विधायक राजेश शुक्ला, सांसद एवं विधायक प्रतिनिधि ने कोरोना नियंत्रण के संबंध में विचार व्यक्त कर सुझाव दिए। कलेक्ट्रेट स्थित एनआईसी कक्ष में वर्चुअली समीक्षा बैठक में पूर्व मंत्री श्रीमती ललिता यादव, विधायक श्री राजेश शुक्ला, डीआईजी श्री विवेक राज सिंह, कलेक्टर श्री शीलेन्द्र सिंह, पुलिस अधीक्षक श्री सचिन शर्मा सहित जिला आपदा प्रबंधन समिति के सदस्य एवं अधिकारीगण उपस्थित थे।



No comments