Breaking News

कर्त्तव्य परायण राजनेता अमित शाह जी ! ।। प्रसंगवश श्री अमित शाह जी के जन्मदिवस पर ।।

 अमित शाह जी' का नाम अब हर भारतीय के लिए सुपरिचित है। अपने असाधारण संगठनात्मक कौशल और 'आउट ऑफ द बॉक्स' सोच के बल पर उन्होंने भारतीय जनता पार्टी को एक अजेय राजनीतिक दल बनाने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई है। इसके परिणाम 2014 से 2019 तक देखने को मिले हैं, जब भाजपा एक राज्य के बाद दूसरे राज्यों में चुनाव जीती और 2019 के लोकसभा चुनाव में बढ़े हुए बहुमत के साथ केंद्र की सत्ता में वापस आई। दिलचस्प बात यह है कि शाह ने यह भी सुनिश्चित किया है कि भले राज्यों के चुनावों में भाजपा लगातार जीत हासिल कर रही है, लेकिन यह केवल एक चुनाव-उन्मुख पार्टी नहीं है। भाजपा के अध्यक्ष बनने के बाद उन्होंने जो सदस्यता अभियान चलाया, उसने इसे दुनिया का सबसे बड़ा राजनीतिक दल बना दिया।

नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार की दूसरी पारी में अमित शाह केंद्रीय गृह मंत्री के रूप में एक शानदार भूमिका निभा रहे हैं। अनुच्छेद 370 को निरस्त करने और पड़ोसी देशों में सताए हुए हिंदुओं तथा अन्य अल्पसंख्यकों को नागरिकता देने जैसे लंबे समय से लंबित मुद्दों को निपटाने के लिए उनके स्पष्ट, निर्णायक और साहसिक दृष्टिकोण ने उनके व्यक्तित्व को एक ऐसे नेता के रूप में प्रतिष्ठित किया है, जो आगे बढ़कर नेतृत्व करता है।

राजनीति, संगठन और शासन से जुड़े मुद्दों के प्रति उनका आत्मविश्वास न केवल उनकी पार्टी के सदस्यों में, बल्कि लंबे समय के बाद, आम भारतीय में भी आत्मविश्वास पैदा कर चुका है कि शीर्ष पर कोई है, जो यह सुनिश्चित करेगा कि भारत आंतरिक रूप से सुरक्षित रहे। जब मंत्रालय चलाने की बात आती है तो एक आम भारतीय उन्हें एक रोल मॉडल के रूप में देखता है। उनका दृष्टिकोण दर्शाता है कि वे देशहित में कड़े फैसले लेने से नहीं चूकेंगे।

शाह की सफलता के लिए महत्त्वपूर्ण कारकों में से एक है पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ उनका सघन और आत्मीय संपर्क, साथ-ही-साथ वैचारिक और राष्ट्रीय मुद्दों की गहरी समझ। वे चतुराई से सभी के बीच तालमेल बनाते हैं, जो उनके राजनीतिक विरोधियों के लिए बिल्कुल अप्रत्याशित है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि भिन्न प्रकार की समस्याओं का समाधान भी शाह बड़ी सहजता से करते हैं।

गुजरात के एक सम्‍पन्‍न व्यावसायिक परिवार में जन्‍में और पले-बढ़े शाह गुजरात में भी नरेंद्र मोदी सरकार के प्रमुख अंग थे। उन्होंने बूथ स्तर पर अभियान चलाकर लोकसभा चुनावों में भाजपा की 2014 की जीत में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई। लगभग पाँच वर्षों तक पार्टी के मामलों में शीर्ष पर रहने के बाद, 2019 के लोकसभा चुनावों के बाद वे सरकार में शामिल हो गए और केंद्र में सबसे महत्वपूर्ण मंत्रालय उन्हें सौंपा गया। यह शीर्ष नेतृत्व द्वारा उनमें प्रकट किए गए अटूट विश्वास को दर्शाता है।

अमित शाह की भूमिका भारत के भविष्य के लिए एक शुभ संकेत है, जो राष्ट्रीय और भारतीय सोच को गति देने वाली है। भारतीय जनता पार्टी को संख्‍यात्‍मक रूप से विश्‍व की नंबर एक पार्टी भर नहीं बनाया अपितु कार्यकर्ता का प्रशिक्षण हो इसलिये देश व्‍यापी बूथ से मंडल, मंडल से जिला, जिला से प्रदेश तथा प्रदेश से राष्‍ट्रीय स्‍तर पर एक मालिका खडी की है। पार्टी संगठन में अनेक आयामों को उन्‍होंने स्‍थापित किया है। देश भर में पार्टी के जिला कार्यालयों का निर्माण प्रारंभ करके उसे सर्वसुविधायुक्‍त भविष्‍य की आवश्‍यकताओं के अनुरूप खड़ा किया। ग्रंथालय, ई-ग्रंथालय एवं डाक्‍यूमेंटशन विभाग की बात हो तो राजनीतिक दल के रूप में विचार धारा पर आधारित परिपक्‍व नेतृत्‍व प्रदान करने की ओर वह बढ़े हैं। पूर्वोत्‍तर राज्‍यों में भाजपा की सरकारें लाने का विषय हो या सात कमजोर राज्‍यों में संगठनात्‍मक राजनीतिक मजबूती की बात हो, वह उनकी प्राथमिकता में सदैव रहा है। इन सब कार्यों में विचारधारा व राष्‍ट्रवाद उनकी सर्वोच्‍च प्राथमिकता है।

अमित शाह जी को अलग-अलग अलंकरणों से चाणक्‍य, राजनीतिक जोड़-तोड़ वाला, पक्ष-विपक्ष को मिलाने वाली की उपमा दी जाता है। सच्‍चे अर्थों में वह कार्यकर्ताओं की चिंता करने वाले मर्म स्‍पर्शी, परिश्रमी, अनुशासन प्रिय, अध्‍ययन शील, समयपालक, नियमित दिनचर्या लिखकर स्‍वयं का सिंहावलोकन करने वाले राजनेता के रूप में सदैव दैदीप्‍यमान नक्षत्र के रूप में चमकते रहेंगे। उनकी कर्त्‍तव्‍य परायणता के कारण ही आज भारत के बाहर भी उनकी कार्यपद्धति, कठोर परिश्रम, राजनैतिक पराक्रमशीलता की वृत्ति पर अध्‍ययन कर रहे हैं। उनके जन्‍मदिन पर प्रभु से प्रार्थना है कि वे दीर्घायु होकर माँ भारती की सेवा में रहकर भारत का सिर गर्व से ऊँचा कर सके। उनके यू-ट्यूब पर उपलब्‍ध भाषणों को देश की घटनाओं की गहरी समझ विकसित करने के लिए सुना और पढ़ा जाना चाहिए, क्योंकि इससे भारत का भविष्य तय होगा।

@ डॉ. राकेश मिश्र,  

कार्यकारी सचिव, पूर्व राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष, भारतीय जनता पार्टी



No comments